भरतपुर में आज महिला नर्सिंग संवर्ग ने अपनी मुख्य मांगों को लेकर कलेक्ट्रेट कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया।

भरतपुर में आज महिला नर्सिंग संवर्ग ने अपनी मुख्य मांगों को लेकर कलेक्ट्रेट कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया। महिला नर्सिंग कर्मियों का कहना है कि वह कोरोना काल में निरंतर  अपनी सेवाएं निस्वार्थ भाव से दे रही हैं। जिसके चलते संपूर्ण भारत में राजस्थान राज्य कोविड-19 वैक्सीनेशन में उच्च श्रेणी में आया है। लेकिन राज्य सरकार द्वारा दी जाने वाली राजकीय अवकाश में उनके साथ दोगला व्यवहार किया जा रहा है। महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं का कहना है कि चिकित्सा अधिकारी एवं अन्य नर्सिंग अधिकारी और पैरामेडिकल कर्मचारियों को तो राजकीय अवकाश दिया जा रहा है। लेकिन महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को तीज त्यौहार पर भी अवकाश नहीं दिया जा रहा है। ऐसे में उन्होंने अपनी 7 सूत्रीय मांगों को लेकर कलेक्ट्रेट कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया और उसके बाद 5 महिला समूह दल ने जिला कलेक्टर को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सोंपा। एएनएम जिला अध्यक्ष रेखा कुंतल ने बताया कि वैक्सीनेशन कार्य में उन्हें रविवार का भी अवकाश नही दिया जा रहा है। ऐसे में उन्होंने राज्य सरकार के आदेश अनुसार वर्ष 2020 की कोविड प्रोत्साहन राशि 2500 रुपये का भुगतान भी दिलाने की मांग की है। महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं का कहना है कि अगर उनकी मांगें नहीं मानी गई तो वह जल्द ही हड़ताल पर चली जाएंगी ।ऐसे में वैक्सीनेशन व्यवस्था भी पूरी तरह प्रभावित होगी ।आज महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के प्रदर्शन से जिले में वैक्सीनेशन व्यवस्था पर भी असर दिखाई दिया ।क्योंकि जिले में लगातार वैक्सीनेशन कैंप लगाकर लोगों को वैक्सीन लगाई जा रही है। लेकिन महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के प्रदर्शन पर आने के बाद स्टाफ की कमी के चलते काफी जगह वैक्सीनेशन व्यवस्था भी प्रभावित हुई