किसानों की मांगों को लेकर करतार सिंह जी ने उप जिला कलेक्टर को दिया ज्ञापन

राष्ट्रीय मानवाधिकार एण्ड एंट्री करप्शन मिशन करौली की ओर से राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं एंट्री करप्शन मिशन करौली के जिलाध्यक्ष करतार सिंह चौधरी धंधावली के

नेतृत्व में माननीय राष्ट्रपति महोदय के नाम उपजिला कलेक्टर महोदय हिंडौनसिटी को ज्ञापन दिया गया । ज्ञापन में जैसा कि आपको ज्ञात है केन्द्र की सरकार द्वारा किसानों के लिए जो बिल लाया गया है वो गलत है इससे किसानों को उनकी उपज का सही मूल्य नही मिल सकता और किसान जो कि हमारे अन्न दाता है उनकी आशाओं के खिलाफ ये विधेयक लाया गया l

आज किसान किस तरह से सड़कों पर उतरे हुए हैं अपना हक मांगने के लिए इस आंदोलन में 4 किसान शहीद तक हो गए है गरीब किसान अपना हक मांगने के लिए बीवी बच्चो के साथ कड़कती सर्दी में उतरे हुए है सरकार फिर भी मुख दर्शक बनी हुई हैं और तानाशाही का रूप लिए हुए है जो कि एक सविधान के खिलाफ है क्योंकि ये कानून किसानों के अधिकारों का हनन है l
आज देश मे अगर हर बुराई ओर भ्रष्टाचार से मुक्त कोई है तो सिर्फ और सिर्फ किसान है जो अपनी मेहनत की कमाई खाता है जिस पर किसी प्रकार का कोई दाग़ नही होता, किसान किस तरह अपनी उपज तैयार होने का इंतजार देखता है और फिर भी उसे उसका सही हक नही मील सके तो यह उसके लिए बहुत दुःख की बात है। आज  केंद्र सरकार को इस पर गहनता से विचार करते हुए विधेयक वापस लेना चाहिए और किसानों को उनका हक देना चाहिये क्योंकि किसान वो है जो खुद बिना किसी डर के अपने जान की परवाह किये बिना दिन रात उपज के लिए मिट्टी के साथ मिट्टी मे मिलकर खून पसीना बहाते रहते है अगर फिर भी किसानों के खिलाफ काला कानून लागू किया जाता है तो ऐसी सरकार पर नालत है। 
मानवाधिकार एंड एन्टी करप्शन मिशन करौली के सभी पदाधिकारी किसानों का समर्थन करते हुए महोदय आपसे निवेदन करते है की आप इस विधेयक को वापस लेने का श्रम करे जिससे किसानों को उनका हक मिल सके और किसान हमे ओर भी खुश होकर अन्न की उपजे प्रधान करता रहे । ज्ञापन में राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं एंट्री करप्शन मिशन करौली के जिलाध्यक्ष करतार सिंह चौधरी धंधावली , वीरसिंह मावई एडवोकेट , भूरमल जाट एडवोकेट , नाहर सिंह डागुर , कृष्णमोहन शर्मा एडवोकेट , दीपक कुमार सैन , ईश्वरसिंह धाकड , के.के.चौधरी , जयसिंह राठौड ,  मदनमोहन मीना आदि मौजूद रहे ।