दिल्ली हाई कोर्ट पत्रकारिता को दिखाई सही दिशा

 पत्रकारिता के मानकों का ध्यान में रखते हुए घटनाओं की रिपोर्टिंग किए जाने के मुद्दे पर सोमवार को दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई हुई 

,न्यायमूर्ति राजीव शुक्ल घर की पीठ ने कहा कि रिपोर्टिंग करना मीडिया का संवैधानिक अधिकार है वह जांच कर सकता है पर सब विश्वास तरीके से और जिम्मेदारी के साथ हो, ऐसा कई मामले हैं जिनमें सच्चाई कुछ और होती है और दिखाया कुछ अलग तरीके से जाता है ऐसे लगता है जैसे पहले ही धारणा बना ली गई हो, केस दर्ज होने से पहले ही नामों को घोषणा कर दी जाती है अदालत समझ नहीं पा रही है यह सब क्या हो रहा है मीडिया खुद नियंत्रण की बात करता है लेकिन कुछ करता नहीं है, कोई नहीं चाहता कि उसकी निजी जिंदगी को सार्वजनिक तरीके से घसीटा

जाए खंडपीठ में कहा गया है कि रिपोर्टिंग के दौरान स्थानीय कानूनी मापदंडों का ध्यान रखा जाए और किसी के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी ना की जाए ll